जलवायु परिवर्तन

जलवायु परिवर्तन और वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी एक बड़ा मुदद बन गया है. हमें भी इसके बारे में जानकारी हासिल करनी चाहिए, तो आइये, हम सरल भाषा में जानने की कोशिश करते हैं कि जलवायु परिवर्तन क्या है ? इससे जुड़े हुए मुख्य मुद्दे क्या हैं? और इसके बारे में बात करते हुए जो शब्द और परिभाषाएं इस्तेमाल की जाती हैं उनका असली मतलब क्या है.

हमारे आसपास की दुनिया:
जब हम अपने आसपास देखते हैं, तो पाते हैं कि हमारा मौसम और जलवायु बदल गया है. दुनिया का औसत तापमान याने गर्मी बढ़ गयी है. ये इस धरती पर जीवन के लिए एक बड़ा मुद्दा बन गया है. इस बात को समझने के लिए आइये कुछ बिन्दुओं को समझें: दुनिया का बहुत तेजी से पहले से ज्यादा गर्म होती जा रही है. पिछले १० हज़ार सालों में जितनी गर्मी नहीं बड़ी थी, उतनी आजकल बढ़ रही है. १९९० का दशक अब तक का सबसे गर्म दशक रहा है, और १९९८ का साल सबसे गर्म साल रहा है. पिछले १०० सालों में दुनिया का औसत तापमान ०.३ से लेकर ०.६ डिग्री सेल्सियस तक बढ़ गया है. आने वाले समय में अगले १०० सालों में ये २ डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है.

इस बढ़ोतरी के कारण ध्रुवों पर जमी बर्फ पिघलने लगी है और समुद्रों का जल स्तर १० से २५ सेंटीमीटर तक बढ़ गया है. एक अनुमान के हिसाब से साल २१०० तक समुद्रों का जलस्तर ५० डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है.

प्रकाशित तिथि:सितंबर 16, 2014
सभी चित्र को देखें