पशु एवं मत्स्य पालन

जलवायु परिवर्तन के लिहाज से पशुपालन एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है। देश की कुल पशु आबादी का 14 फीसदी सिर्फ मध्य प्रदेश में ही है। वर्ष 2007 में हुई पशु गणना के मुताबिक राज्य में 4.06 करोड़ पशुधन हैं। इसी तरह राज्य के पोल्ट्री फार्मों में पक्षियों की संख्या 73 लाख पाई गई थी। राज्य के आर्थिक रूप से दुर्बल वर्ग के लिए मत्स्य पालन आजीविका का एक बड़ा स्रोत है। राज्य का 3.14 लाख हेक्टेयर क्षेत्र इलाका मत्स्यपालन के लिए उपयोग किया जा रहा है। जलवायु परिवर्तन से जिस तरह इंसान प्रभावित होते हैं, उसी तरह पशुओं पर भी इसका प्रभाव पड़ता है।

इससे मच्छर और जल जनित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, उत्पादन क्षमता घट जाती है। बढ़ते तापमान और जल की घटती उपलब्धता से उनके जीवन पर संकट गहराता है। इस लिहाज से सबसे बड़ी चुनौती है पशुपालन में लगे लोगों की मान्यताओं को बदलना। बदलती जलवायुके मुताबिक पशुओं की जरूरतों, उनके बाड़ आदि में जरूरी हो गए बदलावों आदि के बारे में पशुपालकों को आधुनिक और पर्याप्त प्रशिक्षण देना जरूरी हो गया है।

मुख्य रणनीतियाँ

  • सूखा एवं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पशुधन के लिए पोषक, चारा और पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करना
  • बीमारीयों की निगरानी, पूर्वसूचना और निगरानी संबंधी क्षमता वर्धन करना
  • गर्मी के प्रकोप से बचने के लिए पशुधन के लिए उपयुक्त आवास, एवं जल स्त्रोतों की उपलब्धता सुनिश्चित करना
  • स्थानीय पशु प्रजातियों को बढ़ावा देना जो कि जलवायु परिवर्तन खतरों से अनुकूलन कर सके
  • पशु-अपशिष्ट के जैविक खाद की तरह उपयोग को बढ़ावा देना
  • पशु उत्पादों के प्रसंस्करण, भंडारण और परिवहन के लिए आधारभूत संरचना निर्माण करना
  • मध्य प्रदेश के विभिन्न कृषि-जलवायुवीय क्षेत्रों हेतु उपयुक्त मत्स्य पालन तरीकों का विकास करना
  • मत्स्य पालक समुदाय हेतु मत्स्य बीज बैंक का निर्माण करना
  • जलवायु परिवर्तन केंद्रित शोध और विकास को बढ़ावा देना
  • योजना निर्माण में जलवायु परिवर्तन संबंधी चिंताओं को शामिल करने हेतु संस्थागत और कर्मचारी क्षमता वर्धन

Related Resources

जलवायु प्रूफिंग: मत्स्य पालन

जलवायु प्रूफिंग: मत्स्य पालन

हाल ही में वर्षा प्रवृत्ति में परिवर्तन, जैसे पूर्व तथा पश्च मानसून जलवृष्टि तथा मानसून आगमन में परिवर्तन की वजह से किसान प्रभावित हुए हैं। इसके साथ तापमान वृद्धि एक और चनौती बड़ी चुनौती है।

  • जून 06, 2014
  • Resources Type
    : शोध अध्ययन
Read More

मध्य प्रदेश में जलवायु परिवर्तन: विशेषज्ञों के विचारों का संकलन

मध्य प्रदेश में जलवायु परिवर्तन से संबंधित विषयों पर गंभीरता से कार्यरत पर्यावरण योजना और संयोजन संगठन (एपको) के राज्य जलवायु परिवर्तन ज्ञान प्रबंधन केंद्र (एससीसीकेएमसी) ने इस क्षेत्र में सक्रिय शीर्षस्थ विशेषज्ञों के विचारों को एक साथ एक जगह संग्रहित कर प्रस्तुत किया है। 

  • जून 01, 2014
  • Resources Type
    : प्रकाशन
Read More